Followers

Tuesday, June 7, 2011

क्या कह डाला बाबाजी !


यह क्या कह डाला बाबाजी ,
'भ्रष्टाचारियों को हो आजीवन कारावास
या उन्हें चढ़ा दो फाँसी '!
आपने तो अपने भक्तों और
समर्थकों से खूब बजवा ली ताली ,
लेकिन यह भी तो सोचा होता
अगर सचमुच कहीं ऐसा हो गया तो
अपना इंडिया तो हो जायेगा इस
तथाकथित "क्रीम" से पूरी तरह खाली !
सत्ता में क्या वाकई ऐसे मंत्री भी होंगे
जिन्होंने इस बहती गंगा में
कभी भी ना धोये होंगे अपने हाथ ,
और शायद ही प्रशासन में कोई
ऐसा बचा होगा जिसने ना दिया होगा
कभी इन भ्रष्ट मंत्रियों का साथ !
पैसे और रसूख का फ़ायदा उठा
कॉरपोरेट वर्ल्ड के कई दिग्गज
भी तो स्विस बैंक्स के सामने
लाइन लगाये खड़े हैं ,
और कई छोटे बड़े नेता अभिनेता भी
उनका अनुसरण कर
साष्टांग दण्डवत की मुद्रा में
उसी राह में पड़े हैं !
अच्छा है बाबाजी
अगर सच में ऐसा हो गया तो
कुछ तो सारे के सारे ही सपरिवार
भाई बंधुओं और मित्रमंडली के साथ
जेल में पिकनिक मनायेंगे ,
और जो कुछ कम भाग्यशाली रह
फाँसी के फंदे पर चढ़ गये
वे नर्क की रसोई में
सारे नाते रिश्तेदारों के साथ बैठ कर
कोई नयी खिचड़ी पकायेंगे !
आखिर उन्होंने यहाँ भी तो यही
तय किया था कि जो भी बीन बटोर कर
हड़पेंगे मिल बाँट कर खायेंगे ,
अब नर्क के कारावास में
अपनी करतूतों की सज़ा भी वो
साथ-साथ ही पायेंगे !

साधना वैद

चित्र गूगल से साभार --