Followers

Thursday, August 4, 2011

नीलकंठ का आर्तनाद



हे भक्तों

यह कैसी साँसत में तुमने मुझे डाला है

आज तो तुमने मेरे नाम और

मेरे अस्तित्व को ही

कसौटी पर परखने के लिये

मुझे ही ज़हर के समुद्र में

पटक डाला है !

समुद्र मंथन के समय

समुद्र से निकले हलाहल का

देवताओं के अनुरोध पर जग हित में

मैंने पान तो अवश्य किया था

लेकिन मेरे हिस्से में

आजीवन विष ही विष आएगा

यह आकलन मैंने कब किया था !

जगत वासियों तुमने तो संसार में

भाँति-भाँति के विष बनाने की

अनगिनत रसायनशालायें खोल डाली हैं ,

हलाहल से पूर्णत: सिक्त मेरे कंठ की

सीमा और विस्तार को भी तो जानो

इसमें बूँद भर भी

और समाने के लिये

ज़रा सी भी गुंजाइश

क्या और निकलने वाली है ?

तरह-तरह के अनाचार, अत्याचार ,

दुराचार, व्यभिचार, लोभाचार

भ्रष्टाचार और पापाचार

के रिसाव से यह जग भरता जाता है ,

और इतना अधिक विष

अपने कंठ में सम्हाल न पाने की

मेरी असमर्थता को संसार के सामने

उजागर करता जाता है !

मेरा कंठ ही नहीं आज इस

विष स्नान से मैं सम्पूर्ण ही

नीला हो चुका हूँ ,

और अपनी अक्षमताओं के बोझ तले

अपराध बोध से ग्रस्त हो

अपनी ही दृष्टि में

गिर चुका हूँ !

अगर यही हाल रहा तो

हे जगत वासियों

नीलकंठ होने के स्थान पर

मैं विष के इस नीले सागर में

समूचा ही डूब जाउँगा ,

और अगर विष वमन का

तुम्हारा यह अभियान अब नहीं रुका तो

इस देवलोक को छोड़

अन्यत्र कहीं चला जाउँगा

और इस जगत की रक्षा के लिये

फिर कभी लौट कर नहीं आउँगा !


साधना वैद


13 comments :

  1. शिव शिव ...
    मानव के आगे तो वह भी लाचार है !

    ReplyDelete
  2. मनुष्य के आगे तो सब ने हाथ टेक दिए हैं |
    भगवान भी देखना चाहता है इस का अंत क्या होगा |
    अभी जरूर वह मूक दर्शक बना हुआ है पर उसकी लाठी बेआवाज होती है |
    अच्छी प्रस्तुति |
    बधाई |
    आशा

    ReplyDelete
  3. वाकई इस विष वमन से तो शंकर भी पीड़ित हो उठें

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर रचना.

    ReplyDelete
  5. सही कहा मानव के अत्याचारो से आज देवता भी त्रस्त हो गये हैं।

    ReplyDelete
  6. आज कितना विष व्याप्त है शिव के बिम्ब से आपने बहुत अच्छे से दर्शाया है .. बहुत अच्छी प्रस्तुति

    ReplyDelete
  7. एकदम नई सोच लिए रचना...सचमुच...आज इस संसार का हाल देख...भगवान भी कुपित और दुखी होंगे..

    ReplyDelete
  8. सुन्दर भाव और अभिव्यक्ति के साथ शानदार रचना! उम्दा प्रस्तुती!
    मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://seawave-babli.blogspot.com/
    http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/

    ReplyDelete
  9. शिव बह्ग्वान पर लिखा हुई ये कविता , बहुत कुछ कहती है हम सभी से .. बहुत सुन्दर लिखा है आपने .. बधाई

    आभार

    विजय

    कृपया मेरी नयी कविता " फूल, चाय और बारिश " को पढकर अपनी बहुमूल्य राय दिजियेंगा . लिंक है : http://poemsofvijay.blogspot.com/2011/07/blog-post_22.html

    ReplyDelete
  10. shiv ko bimb bana kar sahi udghosh kiya hai...aisi hi rachnao ki jarurat hai jo kaise bhi to utsaah bhare..logo ko apne kartavvyon ka aabhas karaye.

    sunder shabd shaili me dhali prabhavshaali rachna.

    ReplyDelete
  11. बेहतरीन।
    ------
    कल 08/08/2011 को आपकी एक पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  12. मैं तो शिवजी के इस चित्र पर मुग्ध हो गया हूँ । किसका बनाया हुआ चित्र है यह ?

    ReplyDelete