Followers

Friday, June 21, 2019

मैं एकाकी कहाँ


मैं एकाकी कहाँ !

जब भी मेरा मन उदास होता है
अपने कमरे की
प्लास्टर उखड़ी दीवारों पर बनी
मेरे संगी साथियों की
अनगिनत काल्पनिक आकृतियाँ
मुझे हाथ पकड़ अपने साथ खींच ले जाती हैं,
मेरे साथ ढेर सारी मीठी-मीठी बातें करती हैं,
और उनके संग बोल बतिया कर
मेरी सारी उदासी तिरोहित हो जाती है !
फिर मैं एकाकी कहाँ !

जब भी मेरा मन उत्फुल्ल हो
सजने सँवरने को लालायित होता है
शीतल हवा के नर्म, मुलायम,
रेशमी दुपट्टे को लपेट ,
उपवन के सुगन्धित फूलों का इत्र लगा
मैं अपनी कल्पना के संसार में
विचरण करने के लिये निकल पड़ती हूँ,
जहाँ कोई अकुलाहट नहीं,
कोई पीड़ा नहीं,
कोई छटपटाहट नहीं
बस केवल आनंद ही आनंद है !
फिर मैं एकाकी कहाँ !

जब भी कभी सावन की घटाएं
मेरे हृदय के तारों को झंकृत कर जाती हैं,
टीन की छत पर सम लय में गिरती
घनघोर वृष्टि की थाप पर
मेरा मन मयूर थिरक उठता है,
खिड़की के शीशे पर गिरती
बारिश की बूँदों की संगीतमय ध्वनि
मेरे मन को आल्हादित कर जाती है
और उस अलौकिक संगीत से
मेरे अंतर को
निनादित कर जाती है !
फिर मैं एकाकी कहाँ !

जब भी कभी मेरा मन
किसी उत्सव समारोह में सम्मिलित होने को
उतावला हो जाता है
मैं अपने हृदय की पालकी पर सवार हो
सुदूर आकाश में पहुँच जाती हूँ
जहाँ सितारों की रोशनी से
सारा उत्सव स्थल जगमगाता सा प्रतीत होता है,
जहाँ घटाओं की मृदंग
और बिजली की धार पर
दिव्य अप्सराओं का नृत्य हो रहा होता है
और समस्त ग्रह नक्षत्र झूम-झूम कर
करतल ध्वनि से उनका
उत्साहवर्धन करते मिल जाते हैं !
फिर इन सबके सान्निध्य में
मैं एकाकी कहाँ ! 


साधना वैद 

16 comments :

  1. सुप्रभात
    सुन्दर शब्दों में अभिब्यक्ति |उम्दा कविता |










    ReplyDelete
  2. जी नमस्ते,
    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शनिवार (22 -06-2019) को "बिकती नहीं तमीज" (चर्चा अंक- 3374) पर भी होगी।

    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट अक्सर नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    आप भी सादर आमंत्रित है

    ….
    अनीता सैनी

    ReplyDelete
  3. हार्दिक धन्यवाद जीजी ! आभार आपका !

    ReplyDelete
  4. आपका हृदय से बहुत बहुत धन्यवाद एवं आभार अनीता जी ! सप्रेम वन्दे !

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर साधना जी ! एक पुराना नग्मा याद आ गया -
    मैं जब भी अकेली होती हूँ
    तुम चुपके से आ जाते हो
    और झाँक के मेरी आँखों में
    बीते दिन याद दिलाते हो.

    ReplyDelete
  6. सुन्दर प्रतिक्रिया के लिए आपका हृदय से आभार गोपेश जी ! यह गीत मुझे भी बहुत पसंद है !

    ReplyDelete
  7. बहुत सुंदर प्रस्तुति

    ReplyDelete
  8. जी नमस्ते,
    आपकी लिखी रचना हमारे सोमवारीय विशेषांक
    २४ जून २०१९ के लिए साझा की गयी है
    पांच लिंकों का आनंद पर...
    आप भी सादर आमंत्रित हैं...धन्यवाद।

    ReplyDelete
  9. आपका हृदय से बहुत-बहुत धन्यवाद एवं आभार श्वेता जी ! सप्रेम वन्दे !

    ReplyDelete
  10. हार्दिक धन्यवाद अनुराधा जी ! आभार आपका !

    ReplyDelete
  11. कोई पीड़ा नहीं,
    कोई छटपटाहट नहीं
    बस केवल आनंद ही आनंद है !
    फिर मैं एकाकी कहाँ !

    बहुत ही सुंदर अभिव्यक्ति ,सादर नमस्कार

    ReplyDelete
  12. बढ़िया रचना और अभिव्यक्ति की क्षमता है साधना |

    ReplyDelete
  13. उदासी को माधुर्य में बदलना कोई आपसे सीखे दीदी!!!

    ReplyDelete
  14. हार्दिक धन्यवाद कामिनी जी ! आभार आपका !

    ReplyDelete
  15. हार्दिक धन्यवाद एवं आभार जीजी !

    ReplyDelete
  16. उत्साहवर्धक प्रतिक्रिया के लिए आपका हृदय से आभार मीना जी !

    ReplyDelete