Followers

Friday, December 25, 2009

उलझन

अभी तक समझ नहीं पाई कि
भोर की हर उजली किरन के दर्पण में
मैं तुम्हारे ही चेहरे का
प्रतिबिम्ब क्यों ढूँढने लगती हूँ ?
हवा के हर सहलाते दुलराते
स्नेहिल स्पर्श में
मुझे तुम्हारी उँगलियों की
चिर परिचित सी छुअन
क्यों याद आ जाती है ?
सम्पूर्ण घाटी में गूँजती
दिग्दिगंत में व्याप्त
हर पुकार की
व्याकुल प्रतिध्वनि में
मुझे तुम्हारी उतावली आवाज़ के
आवेगपूर्ण आकुल स्वर
क्यों याद आ जाते हैं ?
यह जानते हुए भी कि
ऊँचाई से फर्श पर गिर कर
चूर-चूर हुआ शीशे का बुत
क्या कभी पहले सा जुड़ पाता है ?
धनुष की प्रत्यंचा से छूटा तीर
लाख चाहने पर भी लौट कर
क्या कभी विपरीत दिशा मे मुड़ पाता है ?
वर्षों पिंजरे में बंद रहने के बाद
रुग्ण पंखों वाला असहाय पंछी
दूर आसमान में अन्य पंछियों की तरह
क्या कभी वांछित ऊँचाई पर उड़ पाता है ?
मेरा यह पागल मन
ना जाने क्यूँ
उलझनों के इस भँवर जाल में
आज भी अटका हुआ है ।


साधना वैद

13 comments :

  1. अच्छी कविता उलझन पर ।

    ReplyDelete
  2. बहुत ही सुंदर रचना है।
    ब्लाग जगत में द्वीपांतर परिवार आपका स्वागत करता है।
    pls visit...
    www.dweepanter.blogspot.com

    ReplyDelete
  3. मेरा यह पागल मन
    ना जाने क्यूँ
    उलझनों के इस भँवर जाल में
    आज भी अटका हुआ है ।
    मन का काम ही है उलझना
    औ फिर
    उलझन में उलझे बिना उलझन नहीं सुलझती
    सुन्दर् रचना

    ReplyDelete
  4. मेरा यह पागल मन
    ना जाने क्यूँ
    उलझनों के इस भँवर जाल में
    आज भी अटका हुआ है ।


    -बहुत उम्दा भाव!

    ReplyDelete
  5. बीना शर्माDecember 26, 2009 at 6:27 AM

    ये ही तो प्यार है जिस पर मिट जाने का मन करता है।

    ReplyDelete
  6. वर्षों पिंजरे में बंद रहने के बाद
    रुग्ण पंखों वाला असहाय पंछी
    दूर आसमान में अन्य पंछियों की तरह
    क्या कभी वांछित ऊँचाई पर उड़ पाता है ?
    मेरा यह पागल मन
    ना जाने क्यूँ
    उलझनों के इस भँवर जाल में
    आज भी अटका हुआ है ।
    मन की व्यथा को बहुत सुन्दर शब्दों से उभारा है अच्छी अभिव्यक्ति के लिये बधाई और शुभकामनायें

    ReplyDelete
  7. अच्छी रचना ।नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएँ |

    ReplyDelete
  8. बहुत सुन्दर कविता.


    धन्यवाद.

    ReplyDelete
  9. ऊँचाई से फर्श पर गिर कर
    चूर-चूर हुआ शीशे का बुत
    क्या कभी पहले सा जुड़ पाता है ?
    धनुष की प्रत्यंचा से छूटा तीर
    लाख चाहने पर भी लौट कर
    क्या कभी विपरीत दिशा मे मुड़ पाता है ?
    बहुत शानदार कविता है.

    ReplyDelete
  10. आपकी भावुकता शब्‍दो से टपकती ही नहीं झरती सी महसुस होती है। खुबसुरत ह्रदर्य पाया....समभालना

    मनसा आनंद मानस

    ReplyDelete
  11. uljhan ko suljhana hota hai kya?
    a very difficult theme dealt in such a easy way in spontaneous
    flow> this is something which touches heart>
    Asha

    ReplyDelete
  12. सुन्दर शब्दों से उभारा है अच्छी अभिव्यक्ति के लिये बधाई और शुभकामनायें

    ReplyDelete